Dosti Shayari

Dosti Shayari,Dosti SMS in Hindi,Friendship Day Shayari,Dosti Hindi Shayri,Dosti,Urdu Dosti Shayari,New Dosti Shayari,Shayaris on Dosti,Yaari Shayari,Yaar SMS,Hindi Shayari Friendship


मुझे रेगिस्तान मैं एक पानी का चश्मा मिल गया

मुझे रेगिस्तान मैं एक पानी का चश्मा मिल गया मुझसे ना उम्मीद होने वालो देखो समुन्द्र मिल गया उड़ ही गया वो परिंदा जिसके पर तुमको ना दिखे देखो तंज़ देने वालो मुझे एक खजिना मिल गया बदला वक़्त ऐसा मेरा मुझे हेरात मैं कर दिया अभी तो रात थी ये ना जाने किसने उजाला कर दिया अब तो फ़िक्र और बड़ गई ये जाने किसने किया कर दिया पैदल ही अच्छा था ये दौड़ने वालो मैं क्यों शुमार कर दिया

Read More »

कभी सोचा ना था बचपन इतना जल्दि खो जाएगा

कभी सोचा ना था बचपन इतना जल्दि खो जाएगा। जिम्मेदारिओंके बोझ तले हर वो सपना गुम हो जाएगा। याद आते है वो स्कूल के दोस्त,वो साईकिल की सवारी। गलेमे हाथ डालके घुमना,और वो बाते प्यारी प्यारी। वो मिट्टि के टिले,वो बारिशका पानी। चाँकलेट पे मिले वो स्टिकर्स,जिन्हे लेके होति थी मारामारि। वो झुठमूट का रुठना केहके"जा,तु मेरा दोस्त नहि ", पर झगडा होतेहि आके बोलना"साले,तु नहि तो में भी नहि"। वो टिचरकि डाँटपे ,अँक्टिंग सेहम जानेकी, मन हि मन हँसके बोलना "तुझें भी तो डाँट पडी"। त्योहारोमें घरघर घुमना,भुलके मजहब और जात, शीर कुर्मे के साथ दिवालिकें लड्डू,और बडोंका आशिर्वाद। पिकनिक के वो धमाल गाने,नाचना बेसुरि ताल पर, चुईंगम चबाके चिपकाना ,टिचरजिके शर्ट पर। वो आखरि दिन स्कूलका, "यार मिलते रेहना"बोले आँखोंका पानि, चुपचुपके मन भरकें देखना वो क्लास की "अपनीवालि"। जिंदगिके ईस मुकाम पर, कभी पिछे मुडकेभि देखो यारो, स्कूलके वो दिन, कभि बैठके याद करो यारो। तब पता चलेगा, क्या खोया क्या पाया। तब समझोगे, अरे,सारा जीवन तो युहि गवाया। वो बचपन वापस दे दे कोई, करो रे कोई चमत्कार, दे दे वापस मेरि खिलखिलाति हुई हँसि, और मेरे कमिने दोस्तोंके बाहोंका हार।

Read More »